ब्लॉग्गिंग की मेरी कहानी

KHOJ JINDAGI KI ..KAHANIYO ME

These stories are about Us, our beloved ones and people we know from our neighborhood. They echo reality, our dreams and our relationship from society. Hardly there will be a person who can’t relate these stories with self, we can live in these stories.

ब्लॉग्गिंग एक शौक है, एक जरिया है।

अपने आप से मिलने का, अपनों से मिलने का, अनजान लोगो तक अपनी बात पहुंचाने का।

ब्लॉग्गिंग कोई काम नहीं है, मेरे लिए यह, वह जगह है जहाँ सिर्फ मेरी हुकूमत चलती है।

मतलब जहाँ मैं बिना किसी शर्त के अपने विचारो को बयां कर सकती हूँ, अपने सपनो में जी सकती हूँ।

अपने कलम के माध्यम से कहानियो, कविता के जरिये मैं वह सब कर, कह सकती हूँ।

जो मैं अपने रियल लाइफ में नहीं कर सकती, या जिसे करने से पहले बहुत सोचना पड़ता है।

साथ ही एक रिस्ता बन जाता है, उन लोग से जिनको मैंने कभी देखा नहीं है।

उन अनजान लोगो से जुड़ सकती हूँ, और एक दूसरे से विचार साझा कर सकती हूँ।

आखिर जिंदगी एक अनुभव है, जितना चाहो सीखो एक-दूसरे से चाहे वो मिल के, बात करके या ब्लॉग के जरिये ही सही क्यों न हो … वैसे भी कहा जाता है।

सीखना बंद तो जीतना बंद ।

हर एक स्टोरीज कही न कही, किसी न किसी के जीवन से जुड़ा ही होता है।

और हर एक आर्टिकल में लोग मुझसे जुड़ते है।

अपने अनुभव शेयर करते है, और एक कारवां बनते जाता है।

एक अदृश्य दोस्ती का ,,.. विचारो का ,.. अहसास का ।

मेरी कहानिया समाज से, अपने चारो ओर से उठायी गयी होती है।

जो की आसानी से लोगो से जुड़ जाती है।

किसी भी कहानी का उद्देशय किसी भी सामाजिक बुराई, अंधविश्वश या कुरीतियो को बढ़ावा देना नहीं है।

या किसी को व्यक्तिगत रूप से आहत पहूँचाना नहीं है।

नाम या जगह का मिलना एक संयोग मात्र है ।

शुरू में मैंने एक शौकिया तौर पर ब्लॉग लिखना स्टार्ट किया था।

अपने और दूसरे अनजान लोगो के प्रोत्साहन और प्यार ने मुझे आगे लिखने के लिए प्रेरित किया।

अब मुझे यह अच्छा लगता है, और मैं इसी में अपना भविष्य देखती हूँ

आगे भी हमेशा लिखती रहूंगी।

मिलती रहूंगी बातें करती रहूंगी कुछ अपनी, अपनों की और समाज की ,…… कहाँनियो के जरिये

आप सभी के प्यार के लिए तहे दिल से ….धन्यवाद।

वेनु राजेश वर्मा

(भारत )

Translate Page »