Stories

एक झूठ आकाश का…पहला प्यार …पहला अहसास ( पार्ट- 3)

पहला प्यार

एक झूठ आकाश का

अगर सच बोलता तो शायद हम आज साथ नहीं होते।

इस बात पर अनु को आकाश पर बहुत प्यार आया और शर्मा के नीचे देखती हुई बोलती है …

I LOVE YOU 

पहला प्यार

आकाश व अनु की प्यार की गाड़ी अब चल पड़ी थी।

दोनों की मुलाकाते अब लगभग हर महीने होने लगी, दोनों का प्यार अब परवान चढ़ गया था।

आकाश, अनु के साथ इस बार कही दूर जाने का सोच रहा था।

जहाँ झरने पहाड़, जंगल हो, प्रकृति सभी के लिए  एक सामान रहती है, जहां पर सबको सुकुन मिलता है।

लगभग 150 km दूर एक ऐसी जगह मिल जाती है।

जहाँ आकाश के दोस्त और अनु के दोस्त मिलकर जाने का प्लान बनाते है।

और शाम तक सब को वापस भी आना था।

तो पूरा तैयारी के बाद अगले सुबह सभी निकल जाते है । 

दूसरे दिन सुबह आकाश, अनु  को लेने पहली बार अनु के घर के पास आया, थोड़ा घबराया और डरा हुआ था।

अनु ने जैसे ही आकाश को देखा।

आकाश ने कहा की पहली बार ससुराल की गलियों में आया हु डंडे खाने का डर सा हो रहा है…

और आकाश हसने लगा।

अनु बाइक में जैसा हमेशा  बैठती  है, बैठ गयी।    

थोड़ी दूर जाने के बाद आकाश ने बाइक रोकी और अनु को लाल रंग का गुलाब का  फूल दिया साथ ही चॉकलेट भी।

अनु शर्मा जाती है और आकाश मुस्कुराने लगता है।

सभी दोस्त, और सहेलिया भी वह पहुंच गए, सबने दोनों को चिड़ाना शुरू कर  दिया। 

फिर सभी आगे बढ़ चले, दोनों बाते करने में मशगूल थे।

दोनों प्यार के पंछीयो को कोई मतलब नहीं था किसी से सफर में कौन आगे, कौन  पीछे है।

बाकि सभी उन दोनों को ही देख रहे थे।

थोड़ी दूर जाने के बाद कुछ नाश्ता करने का सोच के एक होटल में रुके।

अनु ने अपने बैग से एक टिफ़िन निकाला और आकाश को दिया और कहा मैंने बनाया है।

तुम्हारे और सिर्फ तुम्हारे लिए …

आकाश उसे देख के मुस्कुराया और पास आके धीरे से बोला सुबह- सुबह मेरे लिए इतनी मेहनत।

इतना प्यार है मुझसे, अनु बिना देखे ही शर्मा के कहती है…

शादी के बाद तो रोज ही सुबह-सुबह ऐसा मेहनत करना है। 

अनु की एक सहेली कहती है तुम दोनों में कितना प्यार है तुम दोनों को देख कर जलन हो रही है।

ये सुन कर अनु को बहुत अच्छा लगा की आकाश इतना प्यार जो करता है उससे। 

अब सब अपने मंजिल पर पहुंच गए और झरने में मस्ती कर रहे थे।

बहुत ही रोमांटिक समय था वो, अनु और आकाश  के लिए, उस पल को जी भर के जी लेना और समेट के रख लेना चाहते थे दोनों।

जैसे वो पल वही थम जाये।

आकाश और अनु एक पत्थर में एक दूसरे से चिपक के बैठ गए ।

आकाश ने अनु से कहा तुम्हारे गीले बाल बहुत प्यारे लग रहे है, इससे खेलने का मन कर रहा है।

कहने  को तो  सब साथ  थे  लेकिन अनु  और  आकाश  बस साथ  थे । 

इन सब में समय का पता ही नहीं चला अब वापस जाने का समय हो चूका था।

सभी तैयार होके वापस जा रहे थे की रास्ते में होटल में खाना खाने का प्लान बना।

आकाश ने अनु के पसंद का और अनु ने आकाश के पसंद का खाना खाया। 

आकाश ने पर्श निकला और बिल पेमेंट करने के लिए पैसे निकाले तभी उसके पर्श से ड्राइविंग लाइसेंस गिर गया।

अनु ने उठाया और उसे देखा और उसे देखते ही झगड़ने लगी फिर आकाश ने उसे शांत करवाया और पूछा अब बताओ क्या हुआ।

बताओ भीं … तुमने अपना DATE OF BIRTH मुझसे  छुपाया, झूठ बोला था इतने  दिन  तक…  

तुम मुझसे एक साल छोटे हो। 

थोड़ी देर चुप रखने के बाद आकाश ने अनु का हाथ पकड़ के कहा  DATE OF BIRTH  से क्या फर्क पड़ता है।

मै  तुमसे  छोटा  हु  या बड़ा, प्यार करता… शादी करना चाहता हु।

क्या ये काफी नहीं है।

जीवन इन सब बेकार की बातो से नहीं  समझदारी से चलता है, और मुस्कुराते हुए अनु को  देखता है।

फिर अनु कहती है लड़के बड़े होते है, तभी गृहस्थी और आपसी  समझदारी अच्छी होती है।

इस बात पर आकाश बहुत हसने लगता है और कहता है तुम्हारे हिसाब से मै समझदार नहीं हु।

जब तुमको  पता नहीं था तो कोई फर्क नहीं पड़ रहा था, अब पता चला तो मै  बदल गया।

वाह तेरा लॉजिक और जोर-जोर से हसने लगता है।

अनु का हाथ आकाश अपने हाथो में लेकर बोलता है मै तुम्हे खोना नहीं चाहता था।

जैसे तुमने मेरा DATE OF BIRTH  पूछा  मैंने तुम्हारा पूछ लिया।

एक साल अपने उम्र को ज्यादा करके बता दिया।

अगर सच बोलता तो शायद हम आज साथ नहीं होते।

इस बात पर अनु को आकाश पर बहुत प्यार आया और शर्मा के नीचे देखती हुई बोलती है …   

I LOVE YOU   

अब दोनों का रिश्ता पहले से और मजबूत हो गया …

  TO BE CONTINUTED          

                                                                                            

 
 
 
 
     
 
 
 
 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate Page »