Featured Healthy Wealthy & Recipes

तुलसी

इम्युनिटी बूस्टर  😊

तुलसी में विटामिन ए ,विटामिन  सी और विटामिन -के भारी मात्रा में पाए जाते है।

जो एंटीऑक्सीडेंट के लिए प्रोटीन की तरह कार्य करता है। 

इसके अलावा यह मिनरल से भी भरपूर है , जैसे की – इसमें मैग्नीशियम ,आयरन ,पोटेशियम और कैल्शियम पाए जाते है। 

धार्मिक महत्व होने के साथ-साथ तुलसी औषधीय गुणों से भी भरपूर है ।

जिसके कारण आयुर्वेद में तुलसी का विशेष महत्व है।

तुलसी ऐसी औषधि है जो लगभग सभी बीमारी में काम आती है।

यह पौधा  हिन्दू धर्म में पवित्र मानी  जाती है , और घर के आँगन में लगाना शुभ माना  जाता है।

तुलसी की प्रजातियां :-

1.ऑसीमम  अमेरिकन (काली तुलसी) गम्भीर या मामरी 

2.ऑसीमम वेसिलिकम (मरुआ ) मुंजरिकी या मुस्सा 

3.ऑसीमम वेसिलिकम मिनिमम  

4.ऑसीमम ग्रेटिसिकम  (राम तुलसी /वन तुलसी /अरण्य  तुलसी )

5.ऑसीमम किलिमण्डचोरिकम (कपूर तुलसी )

6.ऑसीमम सैक्टम (श्री तुलसी /कृष्णा तुलसी )

7.ऑसीमम विरिडी 

इसमें ऑसीमम सैक्टम को प्रधान या पवित्र तुलसी माना  गया है:-  इसकी दो प्रजातियां है .

श्री तुलसी :-जिसकी पत्तिया हरी होती है। 

कृष्णा तुलसी :-जिसकी पत्तिया नीलाभ – कुछ बैगनी रंग लिए होती है। 

गुण धर्म की दृष्टी से काली तुलसी को श्रेष्ट माना जाता है।

परन्तु अधिकांश विद्वानों का मत है, की दोनों के गुण समान होते  है।

 तुलसी एक औषधीय पौधा है , जिसमें विटामिन और खनिज भरपुर  मात्रा  है।

रोगो को दूर करने मे सहायक एवं शारीरिक शक्ति बढ़ाने वाले गुणों से भरपूर

इस औषधीय पौधे को प्रत्यक्ष देवी माना गया है। 

चरक सहिता और सुश्रुत सहित में भी तुलसी के गुणों का वर्णन विस्तार से है।

पौधा समान्तय 30 से 60 सेमी तक ऊंचा होता है

फूल छोटे-छोटे सफ़ेद और बैगनी रंग के होते है।

पौधे में फूलो का समय  जुलाई से ऑक्टूबर तक का होता है। 

तुलसी के स्वास्थय लाभ :-


इम्युनिटी बुस्ट करने  सहायक :-

तुलसी में विटामिन ए ,विटामिन सी और विटामिन -के  भारी मात्रा में पाए जाता है।

जो एंटीऑक्सीडेंट के लिए प्रोटीन की तरह कार्य करता है। 

इसके अलवा यह मिनरल से भी भरपूर है जैसे की इसमें मैग्नीशियम ,आयरन ,पोटेशियम और कैल्शियम  पाए जाते है।

तुलसी के पत्तो का नियमित सेवन से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, साथ ही फ्री रेडिकल की गतिविंधियाँ कम हो जाती है। https://www.desirebig.com/2020/11/08/ajwain-leaves/

क्योकि तुलसी में एंटी-ऑक्सीडेंट गुण पाया जाता है।

 फ्री  रेडिकल अस्वस्थ सेल होते है ,जो स्वस्थ सेल के साथ मिलकर ,स्वस्थ सेल को भी ख़राब कर  देते है। 

अवसाद से निकलने  सहायक :- 

एडाप्टोजेन टर्ब होने के कारण यह अवसाद को दूर करने में सहायक होती है।

 साथ ही तुलसी के पत्तो के सेवन से दिमाग स्वस्थ बनी रहती है।

स्वस्थ ह्रदय के लिए :- 

एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी-इफ्लामेट्री की खूबी तुलसी में पाई जाती है।

जो की ह्रदय को स्वस्थ रखने में सहायक होती है।

तुलसी के नियमित रूप सेवन से ब्लड प्रेशर भी सामान्य बना रहता है।

तुलसी के सेवन से ख़राब कोलेस्ट्रॉल भी कम होता है। 

पेट की समस्याओं से निजात पाने में सहायक :-

तुलसी में यूजेनॉल नामक कंपाउंड होता है, जो पाचन क्रिया में सहायक होते है।

माइग्रेन व सायनस की समस्या से भी निजात पाने में सहायक है।

इसके अलवा यह पेट से जुडी अन्य समस्या :-

जैसे की दस्त, पेट दर्द और ऐठन की समस्या से छुटकारा पाने में सहायक है। 


डाइबटीज व कैंसर से लड़ने में सहायक है :-

ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होने के कारण यह डाइबटीज से गुजर रहे लोगो के लिए लाभदायक है।

साथ ही कैंसर जैसी बीमारी से लड़ने में भी सहायक है।

क्योकि तुलसी में मौजूद ऑइल बेकार सेल को शरीर में आने से रोकती है। 

चेहरे में निखार के लिए :-

त्वचा के लिए वरदान है तुलसी ,- क्योकि इसमें रुक्ष व रोपण पाया जाता है ,रुक्ष गुण चेहरा को तेलीय होने से रोकती है।

और रोपण गुण त्वचा पर पड़े निशान व मुंहासो को हटाने में सहायक होती है।

इसके लिए तुलसी के पत्तों का लेप चेहरे पर लगाए , या सूखा पाउडर भी इस्तेमाल कर सकते है।

रोजाना तुलसी के सेवन से रक्त शुद्ध होती है और चेहरे की त्वचा पर चमक आती है। 

तुलसी के पत्तो की चाय :-

थोड़े से तुलसी के पत्ते (सूखे पाउडर भी इस्तेमाल कर सकते है)+गुड़ या शक़्कर + चाय की पत्ती + अदरक या अदरक की पत्ती + दूध + पानी।  

सभी सामग्री मिलकर 10 -15 मिनट उबाल ले अब इसे छान कर  पी सकते है.

तुलसी के पत्तो का काढ़ा :-

जो की सर्दी-जुकाम लगने पर बहुत आराम देती है

थोड़े से तुलसी के पत्ते (सूखे पाउडर भी इस्तेमाल कर सकते है) + अदरक + काली मिर्च (2-3 चुटकी ) + हल्दी (2-3चुटकी ) + एक गिलास पानी :-

सभी समग्री को मिलाकर एक कप होने तक उबाले उसके पश्चात्  छान कर  सेवन करे। 

पानी में उबाल कर भी उपयोग कर सकते है :-

नियमित रूप से सेवन करने से इम्युनिटी बुस्ट होती है। जिससे रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास होता है। 

3 thoughts on “तुलसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate Page »